प्रधानमंत्री मोदी ने कोविड-19 फ्रंटलाइन वर्करों के लिए की क्रैश कोर्स की शुरुआत कर दी है जाने ये खास बाते

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना 3.0 के तहत इस पूरे क्रैश कोर्स प्रोग्राम को तैयार किया गया है।

प्रधानमंत्री मोदी  ने कोविड-19 फ्रंटलाइन वर्करों के लिए की क्रैश कोर्स की शुरुआत कर दी है जाने ये खास बाते
प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना 3.0 के तहत इस पूरे क्रैश कोर्स प्रोग्राम को तैयार किया गया है।

नई दिल्ली Customized Crash Course programme । प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से दी गई जानकारी अनुसार कोविड-19 महामारी के दौरान देश में मेडिकल उपकरणों, दवाओं, अस्पताल में बिस्तर समेत मानव संसाधन तक की कमी को पूरा करने की दिशा में केंद्र सरकार लगातार प्रयास कर रही है। इसी कड़ी में फ्रंटलाइन वर्करों के लिए क्रैश कोर्स लांच किया है। इसके अंतर्गत कोविड-19 फ्रंटलाइन वर्कर्स के लिए आज क्रैश कोर्स प्रोग्राम की शुरुआत की गई है, ताकि मेडिकल क्षेत्र से बाहर के लोगों को भी आवश्यकता पड़ने पर तत्काल नियुक्त किया जा सके।

 गौरतलब है कि इस क्रैश कोर्स की शुरुआत देश के सभी 26 राज्यों में स्थित 111 प्रशिक्षण केंद्रो में की जाएगी। इस अवसर पर स्किल डेवलपमेंट एंड एंटरप्रेन्योरशिप के केंद्रीय मंत्री डॉ. महेन्द्र नाथ पांडेय भी मौजूद रहे।

ये होगी क्रैश कोर्स की ट्रेनिंग कोर्स 

  • होम केयर सपोर्ट
  • बेसिक केयर सपोर्ट
  • एडवांस केयर सपोर्ट
  • इमरजेंसी केयर सपोर्ट
  • सैंपल कलेक्शन सपोर्ट
  • मेडिकल इक्विपमेंट सपोर्ट

क्रैश कोर्स की पूरा प्रोग्राम

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना 3.0 के तहत इस पूरे क्रैश कोर्स प्रोग्राम को तैयार किया गया है। इस प्रोग्राम के तहत कुल लागत 276 करोड़ रुपए आई है। हेल्थ सेक्टर में वर्तमान व भविष्य के लिए मानव संसाधन की जरूरतों को पूरा करने के लिए नॉन मेडिकल हेल्थकेयर वर्करों का कौशल विकास करना इस प्रोग्राम का मकसद है।