प्राइवेट स्कूल एसोसियेशन कबीरधाम द्वारा जिला शिक्षा अधिकारी को प्रवेश में अनिमित्ता एवं आर.टी.ई. राशि के भुगतान संबंधी ज्ञापन

private school association: कबीरधाम के प्राइवेट स्कूलो द्वारा दो सूत्री मांगो को ले कर जिला शिक्षा अधिकारी को ज्ञापित

प्राइवेट स्कूल एसोसियेशन कबीरधाम द्वारा  जिला शिक्षा अधिकारी को प्रवेश में अनिमित्ता एवं आर.टी.ई. राशि के भुगतान संबंधी ज्ञापन
private school association: कबीरधाम के प्राइवेट स्कूलो द्वारा दो सूत्री मांगो को ले कर जिला शिक्षा अधिकारी को ज्ञापित

कबीरधाम । प्राइवेट स्कूल एशोसिऐशन:  बीते दिनों  प्राइवेट स्कूल एशोसिऐशन कबीरधाम  द्वारा अपने मांगो को लेकर जिला शिक्षा अधिकारी कबीरधाम को  पत्र के माध्यम से अवगत कराया गया कि सत्र 2021-22 हेतु समस्त शासकिय व अशासकिय विद्यालयों में प्रवेश कि प्रकिया प्रारंभ हो चुका है, वर्तमान स्थिती में समस्त  निजी विद्यालयों में भारी संकट छाया हुआ है, जिस स्थिती से आप भलीभाती अवगत होने  के वावजुद आपके अधिनस्थ संचालित शासकिय विद्यालयों द्वारा  टी.सी. व अंकसुची प्राप्त किये बिना सिधे अगली कक्षा में विद्यार्थीयों का दबाव पूर्वक प्रवेश लिया जा रहा है । जो कि बहुत ही निदनीय प्रकिया को सुचित करता है । जिले में संचालित समस्त निजी विद्यालयों कि संचालन कि अनुमति आपके ही द्वारा दिया गया है, तथा इन निजी विद्यालयों ने प्रत्येक क्षेत्रो में  हमेशा ही उत्कृष्ट परिणाम आपके सामने प्रस्तुत किये है और आपके आदेशो का पालन करते हुए हमेशा आपके कदम के साथ कदम मिलाते रहे है । उसके  बावजुद इस प्रकार यदि प्रवेश में इन निजी विद्यालयों के साथ अनदेखी किया जाता है तो यह प्रकिया इन विद्यालयों के संचालन में बहुत बड़ी रूकावट रहेगा ।इस प्रकार यदि प्रवेश चलते रहा तो निजी विद्यालयों द्वारा दो वर्षों का बकाया राशि नही वसुली किया जा सकता जिससे इनकी आर्थिक स्थिती विद्यालय संचालन के लायक नही रह पाऐगा ।स्कूल एशोसिऐशन द्वारा  निवेदन किया गया है  कि इस दबाव पूर्वक प्रवेश कि प्रकिया को रोका जाए या प्रवेशित छात्रों का समस्त बकाया शुल्क प्रवेश लेने वाले विद्यालय प्रमुख वसुली कर पूर्व विद्यालयों की क्षतिपूर्ति करे ।

प्राइवेट स्कूल एशोसिऐशन द्वारा ज्ञापित की प्रति :

आर.टी.ई. राशि का  भुगतान

 संघ ने बताया की  माह मार्च में जो कि शैक्षणिक सत्र का अंतिम माह होता है, जिसमें विद्यालय द्वारा समस्त शुल्कों का संकलन होना रहता है उक्तानुसार कोरोना महामारी के सचारण कि दर में वृद्धि होने के कारण पुनः मार्च 2020 से ही विद्यालयों को बंद रखने का आदेश प्रशासन द्वारा दे  दिया गया था । जिसके कारणों  से  विद्यालयों का अधिकतम शुल्क जमा नहीं हो पाया साथ ही साथ 2 वर्षों से प्रायः सभी निजी विद्यालयों कि आर्थिक स्थिती अत्यत खराब चल रहा है । इस महामारी व लाकडाउन के कारण जिले भर में संचालित प्राइवेट विद्यालयों को विकट आर्थीक स्थितियों का सामना करना पड़ रहा है । जिस कारण से न तो कर्मचारियों का वेतन दे पा रहे है और न ही स्वतंत्र रूप से विद्यालय का संचालन हो पा रहा है । इसके लिए संघ ने निवेदित किया है की आर.टी.ई. राशि सत्र 2019-20 का शेष राशि व 2020-2021 कि राशि को प्रदाय कर सहयोग प्रदान करे। ताकि आपके अधिन संचालित समस्त निजी विद्यालय सुचारू रूप से संचालीत रहे ।