कोरोना पर वैज्ञानिकों का नई रिसर्च: वैक्सीन पूरी जिंदगी करेगी काम, वैक्सीन से शरीर में एंटीबॉडी विकसित

corona vaccine research :कोविड के नए वैरिएंट से लड़ने के लिए दोबारा टीका लगवाना होगा

कोरोना पर वैज्ञानिकों का  नई रिसर्च: वैक्सीन पूरी जिंदगी करेगी काम, वैक्सीन से  शरीर में एंटीबॉडी विकसित
corona vaccine research :कोविड के नए वैरिएंट से लड़ने के लिए दोबारा टीका लगवाना होगा

corona vaccine research : कोरोना वायरस को रोकने और उनके प्रभाव को काम करने के लिए बड़े स्तर पर वैक्सीनेशन अभियान चल रहा है। वहीं इस महामारी को खत्म करने वैज्ञानिक दिन रात मेहनत कर रहे हैं। साथ ही इस कोविड को हराने के लिए लगातार नए-नए रिसर्च सामने भी आ रहे हैं। जिससे जल्द पूरी दुनिया को वायरस से मुक्ति की उम्मीद जागी हुई है। इस बीच उम्मीद की एक नयी किरण सामने आई बताया जा रहा है की  इस अध्ययन में दावा किया गया है कि वैक्सीन लोगों पर पूरी जिंदगी काम करेगी। हालांकि संक्रमितो के संपर्क में आने से टीका लगाने के बाद भी दोबारा संक्रमित हो रहे हैं। लेकिन इसका  फायदा यह  है कि वैक्सीन लगने से शरीर में एंटीबॉडी विकसित होने लगती है, जो कोरोना से लड़ने में मदद करता है।

साथ ही  रिचर्स में कहा गया है, कि लोगों में बार-बार वैक्सीन लगवाने का डर खत्म होगा। ऐसा कहा जा रहा था कि कोविड के नए वैरिएंट से लड़ने के लिए दोबारा टीका लगवाना होगा। अध्ययन में साइंटिस्टों ने पाया कि नोवल कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ने की प्रतिरोधक क्षमता एक वर्ष तक रहती है। वैज्ञानिकों ने बोन मैरो के आधार पर रिसर्च रिपोर्ट तैयार की है।

 रिसर्च रिपोर्ट के मुताबिक  बोन मैरो एंटीबॉडी बनाने का काम करता है। रिसर्च में शोधकर्ताओ को इम्युनिटी सेल्स का पता चला है। वहीं पता चला कि कोरोना से स्वस्थ्य होने के कुछ माह बाद ब्लड में एंटीबॉडी कम होने लगती है। वैज्ञानिकों ने कहा कि जिन लोगों ने वैक्सीन लगाई है, उनमें एंटीबॉडी डेवलेप होगी। जिसे उन्हें बूस्टर डोज लगवाने की जरूरत नहीं है।